JMM Helpline: 1800 200 9621

हेमंत सोरेन, मुख्यमंत्री, झारखंड
श्री हेमंत सोरेन झारखंड के पांचवें और युवा मुख्यमंत्री हैं। इससे पहले हेमंत पूर्ववर्ती अर्जुन मुंडा की सरकार में उप मुख्यमंत्री थे। राष्ट्रपति शासन हटने के बाद 13 जुलाई, 2013 को हेमंत सोरेन ने झारखंड के मुख्यमंत्री पद की कमान संभाली। आरजेडी और कांग्रेस के सहयोग से हेमंत राज्य की 9वीं सरकार की अगुवाई कर रहे हैं।

हेमंत सोरेन का जन्म 10 अगस्त 1975 को अविभाजित बिहार के हजारीबाग जिले के रामगढ़ अनुमंडल के नेमरा गांव में हुआ । हेमंत सोरेन का जन्म एक राजनीतिक परिवार में हुआ लिहाजा राजनीति इन्हें पिता शिबू सोरेन से विरासत में मिली है। सादगी पसंद हेमंत सोरेन इससे पहले 24 जून, 2009 से 4 जनवरी 2010 तक राज्यसभा सांसद रहे। इसके बाद पहली बार 23 दिसंबर, 2009 को दुमका विधानसभा सीट से झारखंड मुक्ति मोर्चा की टिकट पर विधायक चुने गए।

हेमंत सोरेन को 11 सितंबर, 2010 को राज्य में अर्जुन मुंडा के नेतृत्व में बनी सरकार में उप मुख्यमंत्री का ओहदा मिला और उन्हें राज्य के वित्त मंत्री, नगर विकास मंत्री, आवास, पेयजल, नागर विमानन एवं खान विभाग की जिम्मेदारी दी गई जिसे युवा हेमंत ने पूरी निष्ठा के साथ निभाया।

2013 को झारखंड के सबसे युवा मुख्यमंत्री के तौर पर हेमंत सोरेन ने कमान संभाली और उन्होंने राज्य के विकास का जो खाका खींचा है वो अवाम को काफी पसंद आया है। हेमंत सरकार ने एक साल के अंदर कई ऐसी कल्याणकारी योजनाओं को लागू किया जिससे झारखंड तेजी से विकास के पथ पर अग्रसर हो रहा है।

हेमंत सोरेन की प्रारंभिक शिक्षा बोकारो में हुई इसके बाद 1990 में पटना के एम जी हाईस्कूल से 10वीं की परीक्षा पास की। 1994 में उन्होंने पटना हाई स्कूल से इंटरमीडिएट पास किया। बाद में रांची के बीआईटी मेसरा इंजीनियरिंग कॉलेज से मेकेनिकल इंजीनियरिंग में स्नातक की उपाधि ली।

पिता शिबू सोरेन और मां रुपी सोरेन की दूसरी संतान हेमंत सोरेन ने कल्पना से शादी की। उनसे इनके दो बेटे हैं। हेमंत सोरेन का राजनीति में सन् 2003 में पदार्पण हुआ। वह पहली बार झारखंड छात्र मोर्चा के अध्यक्ष बने और छात्रों के हितों की जमकर पैरवी की जहां उनकी अलग पहचान बनी। आज हेमंत सोरेन के नेतृत्व में आगे बढ़ रहा है झारखंड और अपने सपनों को हेमंत संग साकार कर रहा है झारखंड।


Press Esc to close

Contact Us