JMM Helpline: 1800 200 9621

विचारधारा
झारखंड मुक्ति मोर्चा झारखंड की शोषित पीड़ित एवं पहचान के लिए संघर्षरत, संघर्षशील, प्रगतिशील, विवेकपूर्ण एवं उच्च आदर्शोंवाली जनता का एक राजनीतिक संगठन है। झारखंड मुक्ति मोर्चा मजदूरों, किसानों, छात्रों नौजवानों, महिलाओं, बुद्धिजीवियों एवं समस्त शोषित जनता की स्वेच्छा से निर्मित संगठन है जिसका लक्ष्य झारखंड की पहचान हासिल करना एवं एक समृद्ध झारखंड राज्य का निर्माण करना है।
झारखंड मुक्ति मोर्चा भारतीय गणराज्य के अंदर समाजवाद पर आधारित प्रांत के रूप में झारखंड का निर्माण करने का लक्ष्य अपने सामने रखती है,जिसमें मनुष्य के द्वारा मनुष्य के शोषण की कोई संभावना न हो। झारखंड मुक्ति मोर्चा जिस आदर्श झारखंड राज्य की परिकल्पना करता है उसमें झारखंड भू-भाग में वैसे करोड़ों-करोड़ श्रमजीवी मनुष्यों की आत्मनिर्णय तथा अभिव्यक्ति की आकांक्षा प्रतिबिम्बित करती है। मोर्चा का लक्ष्य उस आमूल परिवर्तन के साथ जुड़ा है जिसके अंतर्गत पिछड़ापन, दरिद्रता, कंगाली एवं अशिक्षा को समूल उखाड़कर स्वस्थ, सामान्य, समृद्ध, खुशहाल तथा सामुदायिकता पर आधारित उन्नतिशील समाज का निर्माण करना है।

जनतांत्रिक सिद्धांतों पर दृढ़ता के साथ अडिग रुप से अमल करना तथा उन सिद्धान्तों को झारखंड की वर्तमान परिस्थितियों में सही तरीके से लागू कर ही मोर्चा अपने ऐतिहासिक दायित्वों का पालन कर सकता है क्योंकि झारखंड का जन आंदोलन एक क्रांतिकारी आंदोलन रहा है।

आत्मनिर्णय के अधिकार की प्राप्ति के लिए यह आवश्यक है कि झारखंड भू-भाग की शोषित-पीड़ित जनता संघर्ष के आधार पर झारखंड राज्य के निर्माण में कामयाब हो। मोर्चा झारखंड की जनता को इस ऐतिहासिक लड़ाई का नेतृत्व वफादारी के साथ जनता की शक्ति में अटूट विश्वास रखते हुए उसे अंतिम नतीजे तक ले जाने का संकल्प लेता है।